Header Ads

कल्कि अवतार कब जन्म लेंगे? (When will kalki Avatar be born)

कल्कि अवतार कब जन्म लेंगे? (When will kalki Avatar be born)

पुराणों में चार युगों का वर्णन मिलता है सतयुग, त्रेतायुग, द्वापरयुग और कलयुग|  हिन्दू धर्म ग्रंथु में इस बात का वर्णन मिलता है की जब जब धरती पर पाप और अन्याय बढ़ा है तब भगवान विष्णु किसी न किसी रूप में धरती पर पापियों का विनाश करने के लिए प्रकट हुए हैं| जैसे
  • वामन अवतार 
  • नरसिंघ अवतार 
  • मत्स्य अवतार 
  • राम अवतार 
  • कृष्णा अवतार 
ये सभी अवतार इस बात को प्रमाणित भी  करते है|
कल्कि अवतार कब जन्म लेंगे? (When will kalki Avatar be born)
कल्कि अवतार कब जन्म लेंगे? (When will kalki Avatar be born)
कल्कि अवतार कब जन्म लेंगे? (When will kalki Avatar be born)
Also Read: क्यों मरने से पुर्व गरुण पुराण का पाठ करना चाहिए?
शास्त्रों में विष्णु भगवान के 10 अवतारों का उल्लेख मिलता है इनमें से वह अब तक नौ अवतार ले चुके है लेकिन कलयुग में विष्णु भगवन का अंतिम अवतार होना अभी बाकी हैं| ऐसा माना जाता है की जब कलयुग अपनी चरम सीमा पर पहुंच जाएगा तब भगवान विष्णु जी कल्कि अवतार लेकर कलयुग का अंत करंगे और धर्म युग की स्तापना करेंगे| 
कल्कि अवतार आज भी लोगो के लिए एक रहस्य है हर कोई जानना चाहता है की भगवान् विष्णु जी अपना कल्कि अवतार कब लेंगे और कहा लेंगे उनका रूप कैसा होगा उनका वाहन क्या होगा ऐसे सभी सवालो के जवाब श्रीमद्भगवतगीता में मौजूद हैं| 

आज इस लेख में आपको कल्कि अवतार के बारे में सारे जवाब मिल जाएंगे 

भागवत गीता में श्री कृष्ण ने कहा है की जब जब धर्म की हानि होती है और अधर्म अपनी चरम पर होता है तब धर्म की स्तापना के लिए भगवान विष्णु अवतार लेते है| श्रीमदभागवत पुराण के 12 वे स्कन्द में लिखा है की भगवान का कल्कि अवतार कलयुग के अंत और सतयुग के संधिकाल में होगा| 
शास्त्रों की माने तो भगवान् राम और श्री कृष्णा का अवतार भी अपने अपने युगो के अंत में हुआ था| इसलिय जब कलयुग का अंत निकट आ जाएगा तब भगवान विष्णु अपना कल्कि अवतार लेंगे| 
हिन्दू धर्म ग्रन्थ में कल्कि अवतार से सम्बंधित एक श्लोक का उल्लेख मिलता है जो यह दर्शाता है की कलयुग में भगवान् का कल्कि अवतार कब और कहा होगा और उनके पिता कौन होंगे| 
सम्भल ग्राम मुख्यस्य ब्राह्मणस्य महात्मनः
भवने विष्णुयशसः कल्कि प्रादुर्भाविष्यति ।।
अर्थाथ सम्भल ग्राम में विष्णुयश नाम के श्रेष्ठ ब्राह्मण के पुत्र के रूप में भगवान कल्कि का जन्म होगा| यह देवदत्त नाम के घोड़े पे सवार होकर अपनी तलवार से दुष्टो का संहार करेंगे तब ही सतयुग की शुरुवात होगी| 
भगवान विष्णु का कल्कि अवतार निष्कलंक अवतार के नाम से भी जाना जायेगा इस अवतार में उनकी माता का नाम सुमति होगा इनके अलावा कल्कि भगवान के 3 बड़े भाई भी होंगे जिनके नाम क्रमशः सुमन्त, प्राज्ञ और कवि होंगे| याज्ञवलक्य जी उनके पुरोहित और भगवान परशुराम उनके गुरु होंगे| 
भगवान कल्कि जी की दो पत्नियाँ होंगी लक्ष्मी रुपी पदमा और वैष्णवी रुपी रमा उनके पुत्रो के नाम जय, विजय मेघमाल तथा बलाहक

पुराणों में बताया गया है की कलयुग के अन्त में भगवान विष्णु यह अवतार धारण करेंगे और अधर्मियों का अंत करके फिर से धर्म का राज्य स्थापित करेंगे अभी कलयुग का कुछ ही समय बीता है इसलिए अभी इस अवतार के जन्म लेने में काफी समय बचा है अभी तो हम लोगो को केवल प्रतीक्षा ही करनी होगी की कब कल्कि भगवान जन्म लेंगे और  दुष्टो का संहार करेंगे और सतयुग की शुरुवात होगी


दोस्तों हमें कॉमेंट करके बतायेगा की आपको ये लेख कैसा लगा|  

2 comments: